Jul 17, 2022, 15:05 IST

यहां बिकी थी भारत की पहली कार, इस अदभुत कार को देखकर आप भी रह जाओगे दंग

car

Newz Fast, Automobile पुराने समय में लगभग साल 1907 तक आते-आते कारों का क्रेज कलकत्ता में तेजी से चलने लगा और यह कलकता की संस्कृति का हिस्सा बनने लगी थीं. आपको बता दें कि इन कारों को खरीदने वाले उस समय के बड़े-बड़े जमींदार होते थे. 

अपनी अमीरी को दिखाने के लिए जमींदार कारों को पंसद करने लगे और इसी के साथ कारों की मांग तेजी से बढ़ने लगी और जब भारत में पहली कार आई तो उसको कलकता में बेचा गया।

वैसे तो दिल्ली को ऑटो मार्केट का राजा कहा जाता है लेकिन जहां देश की पहली कार बिकी हो उस शहर की छवि अलग ही रहती है, यदि आप कार का इतिहास देखोगे तो पहली कार का इतिहास 1897 तक जाता है.

जानते है कब बिकी पहली कार 

कलकत्ता, वो शहर जहां से अंग्रेजी हुकूमत का सिक्का 1911 तक चलता रहा. 1897 के वक्त ये शहर व्यापार और उद्योग के सबसे बड़े केंद्रों में से एक था.

यही वजह थी कि भारतीय बाजार में पहली बार जब कोई कार लॉन्च हुई तो उसे इसी शहर में आना पड़ा और इस कार को खरीदने वाला शख्स भी कलकता का रहने वाला था।

कई जगह से सुचना आती रहती है कि भारत की पहली कार क्रॉम्प्टन ग्रीव्ज से जुड़े मिस्टर फोस्टर ने खरीदी, लेकिन यह बात अभी तक एक अफवाह ही मानी जा रही है।

लेकिन ये बात सच है कि इसे खरीदा कलकत्ता में ही गया था. ये कार संभवतया फ्रांस की DeDion थी. जब इसकी लॉन्चिंग का इश्तेहार छपा तो कार ने कलकता के लोगों का दिल जीत लिया और लोग इसे देखने के लिए उत्सुक होने लगे।

उस समय की सुचना के अनुसार कलकत्ता में भले देश की पहली कार बिकी हो, लेकिन कुछ ही समय बाद मुंबई में 4 कारों की सेल हुई. इन चारों कारों को खरीदने वाले पारसी समुदाय के लोग थे.

टाटा ग्रुप के संस्थापक Jamsetji Tata जिन्होनें देश की पहली कार खरीदी उन्होनें मुंबई में बिकने वाली कारों में हिस्सा लिया। 

कारों ने जीता जमीदारों का दिल 

साल 1907 तक आते-आते कारें कलकत्ता की संस्कृति का हिस्साा बनने लगीं. इन कारों के खरीदार उस दौर के बड़े-बड़े जमींदार होते थे.

उस दौर में जमीदारों के पास बहुत पैसा हुआ करता था और वह इस अमीरी को दिखाने के लिए बड़े-बड़े शौंक रखते थे। 

उस समय कारों के खरीदार जमीदार ही थे उस दौर की कई विदेशी कंपनियां भारतीय बाजार में अपनी कार लेकर आईं, लेकिन सबसे ज्यादा डिमांड Lanchesters और Ford Model T की रही.

कलकता की इस पहली कार की लोकप्रियता पुरे देश में तेजी से फैलने लग गई।